bebaak

current social and economical changes

113 Posts

1754 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5699 postid : 1096

दहेज़ नहीं मिला !!!

Posted On: 14 Dec, 2015 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

फिर चिट्ठी आई
क्या लिख दूँ ?
जमाने भर का रोना
समाज की पाबंदी
नेकी और बदनामी का डर
पत्र पढ़ कर करवट बदल लेता हूँ /
अमलतास गुलमोहर की छाँव
याद आ जाती है
नदी का तीर
बादल के आवारा टुकड़ों की तरह
स्वछंद विचरण
खँडहर का प्राचीर
और
झाड़ियों का झुरमुट
फिर करवट बदल लेता हूँ /
शबनम की बूंदों से भरा मुख
दरवाजे की ओट में खडा है
मैं
बरदाश्त नहीं कर पाता
सिंदूर से भरी मुठी
उसकी मांग में भर देता हूँ /
लाज से सिमटी सिकुड़ी
लाल चमकती चुनरी उड़ाती
उषा भाग जाती है ,
और मैं -
पृथ्वी पर
प्रकाश बिखेरने वाला सूरज
खडा खडा सोचता हूँ
दहेज़ में कुछ नहीं मिला !!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran